Accountancy क्या हैं? (What is Accountancy) in Hindi

0

Accountancy क्या हैं?– नमस्कार दोस्तों, गंगा ज्ञान पर आप सब का स्वगात है, आज के इस पोस्ट में हम जानेगे Accountancy यानी लेखांकन के बारे में, एकाउंटेंसी क्या है? इसकी जरूरत क्यो और कहा होती है? अगर आप भी एकाउंटेंसी के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो आप हमारे इस पोस्ट को पूरा पढ़ें। इस पोस्ट में हम अकॉउंटेसी के बारे में विस्तार से पूरी जानकारी हिन्दी मे देने वाले है। तो चलिए शुरू करते है:

what-is-accountancy

यदि हम आसान शब्दों में समझे तो Accountacy एक मात्र कला है जिसका प्रयोग किसी भी व्यापार की आर्थिक स्थिति जानने के लिए किया जाता है जो एक सरल और सीधा उपाय है, चलिए हम विस्तार से जानते है What is Accountacy एकाउंटेंसी क्या है –

अकॉउंटेंसी क्या हैं? (What is Accountacy)

अकॉउंटेंसी का अर्थ होता हैं लेखाकंन जिसका प्रयोग किसी भी व्यापार (Buisiness) की आर्थिक स्थिति या लाभ हानि ज्ञात करने के लिए किया जाता है, लेखांकन को एक कला भी कहा जा सकता है | जब व्यापारी एक निश्चित अवधी पर अपने व्यापार से जुडी कुछ ख़ास बातों को जानना चाहता है जैसे – Total Purchase, Total Sale, Total Stock, कुल बकाया राशि की किस से कितना पैसा लेना है और किसको कितना पैसा देना है, इन सभी जानकारियों को लेखांकन के माध्यम से ज्ञात किया जा सकता है|

इसे भी भी पढ़े – Virus क्या है ? (What is Virus?) इससे कैसे बचे? फायदे एवं नुक्सान

Accountancy के नियम के अनुसार किसी भी व्यापार का निश्चित अवधी एक वित्तीय वर्ष में मापा जाता है जिसे हम Financila Year कहते है जिसकी अवधि 1 अप्रैल से 31 मार्च तक होती है| इस अवधि तक होने वाले सभी लेन-देन का हिसाब-किताब करके एक आर्थिक चठ्ठा तैयार किया जाता है जिसे Balance Sheet कहते है|

लेखांकन की आवश्यकता (Need of Accountancy)

जब एक व्यापारी अपने व्यापर की आर्थिक स्थिति, लाभ- हानि या व्यापर में हुए लेन-देन को एक निश्चित अवधि पर जानना चाहता है तब उसे अपने व्यापार का लेखांकन करवाना होता है| लेखांकन के माध्यम से ही हम यह जान पाते है की हमारे व्यापार की स्थिति कैसी है हमारे व्यापार में कितना लाभ तथा हानि हो रही है| लेखांकन करने वाले व्यक्ति को हम Accountant या लेखाकार कहते है | लेखांकन की प्रयोग किसी भी प्रकार के व्यापार (Business) में किया जा सकता है |

व्यापार क्या है? (What is Buisiness?)

अभी तक आपलोगो ने बहुत सारे व्यापर देखें होंगे या आप भी किसी प्रकार का व्यापार Buisiness करते ही होंगे, परन्तु कोई आपसे पूछ दे की व्यापार क्या होता है (What is Business) तो आप थोड़ा संकोच में पड़ जाते है| किसी भी वस्तु के लेन-देन को व्यापार या (Buisiness) कहा जाता है, हम किसी व्यापर के माध्यम से ही किसी वस्तु का लेन-देन कर सकते है|

किसी भी व्यापार में कभी भी 2 खतों के बीच लेन-देन होता है जिसमे एक खाता Debit और दूसरा खता Credit होता है, कभी भी एक अकेला खाता खुद से लेन-देन नहीं कर सकता| व्यापार में किसी भी लेन-देन को करने के लिए हमें उस लेन-देन से सम्बंधित खाते खोलने होते है| जो लेखांकन के नियम पर निर्भर करता है | Accountancy में कुछ खातों का प्रकार होता है जिसके आधार पर व्यापर में होने वाले लेन-देन से सम्बंधित खाते खोले जाते है |

लेखांकन में खतों का प्रकार (Types of Account in Accountancy )

लेखांकन में मुख्य रूप से 3 खाते होते है इन्ही तीनो खातों के आधार पर व्यापार में होने वाले सभी लेन देन के खाते खोले जाते है | तो आइये हम इन तीनो खातों के बारे में समझते है –

1. Personal Account (व्यक्तिगत खाता) – यह एकाउंटेंसी के अंतर्गत आने वाला पहला खाता है, इस खाते के अंतर्गत किसी व्यक्ति से सम्बंधित, कंपनी से सम्बंधित तथा संस्था से सम्बंधित खातों को खोल सकते है, इस खाते के अंतर्गत आने वाले खातों को निम्नलिखित नियमों के आधार पर Debit तथा Credit किया जाता है|

  • Debit – Debit the Reciever (प्राप्तकर्ता को Debit करें)
  • Credit – Credit the Giver (देनेवाले को क्रेडिट करें )

2. Real Account-(वास्तविक खाता) – एकाउंटेंसी के इस खाते में व्यक्ति तथा कंपनी से सम्बंधित खाते नहीं खोले जाते है इस अकाउंट में माल तथा सम्पति से सम्बंधित खाते खोले जाते है | इस खाते के अंतर्गत आने वाले खातों को निम्नलिखित नियमों के आधार पर Debit तथा Credit किया जाता है|

  • Debit – Debit What Comes in (आने वाले को Debit करें)
  • Credit – Credit What Goes Out (जाने वाले को Credit करें )

3. Nominal Account – (अवास्तविक खाता) – इस खाते में लाभ तथा हानि से सम्बंधित खाते खोले जाते है तथा इस खाते के अंतर्गत आने वाले खातों को निम्नलिखित नियमों के आधार पर Debit तथा Credit किया जाता है|

  • Debit – Debit All Expense and Losses (सभी खर्च एवं हानि के खातों को Debit करें)
  • Credit – Credit All Income and Gains (सभी लाभ और आय के खातों को क्रेडिट करें )

उम्मीद है कि यह What is Accountancy का पोस्ट आपको पसंद आया होगा, आप इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर कर के हमारा मनोबल बढ़ा सकते है ताकि हम इसी तरह नई- नई जानकारियों को आपके लिए हिंदी में लिख सके| यदि इस पोस्ट से सम्बंधित आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप निचे Comment बॉक्स के माध्यम से हमें बता सकते है|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here