PWD Kya Hai? और Public Work Department में Civil Engineer कैसे बने?

PWD Kya Hai and PWD me Civil Engineer Kaise Bane

PWD Kya Hai? Or PWD क्या क्या कार्य करता हैं – नमस्कार दोस्तो, Gangagyan पर आप सब का फिर से स्वागत है। आज के इस पोस्ट में हम आपको PWD के बारे में बताने जा रहें हैं कि PWD Kya Hai, PWD में जॉब कैसे पाएं, PWD में civil engineer कैसे बने। जी हां दोस्तों, अगर आप PWD में जॉब पाना चाहते है तो सबसे पहले आपको इसमे civil engineer के पोस्ट पर job मिलती है। इसलिए आपको PWD के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। अगर आप भी Pwd Kya Hai के बारे में जानना चाहते है तो आप हमारे इस पोस्ट को जरूर पढ़े और दोस्तों के साथ शेयर करे।

pwd-kya-hai

आज के समय में civil engineering और सिविल कार्यों की डिमांड बहुत ज्यादा बढ़ रही है।आज हम जहां भी देखते हैं हर क्षेत्र में हमे सिविल से जुड़े हुए कार्य दिखाई देता है। आज हर जगह construction से जुड़े हुए कार्य होते हुए नजर आते हैं तो ऐसे में सिविल इंजीनियर की डिमांड बढ़ रही है।

तो आइए जानते हैं PWD kya hai? और इसमें civil engineer क्या होता है। सिविल इंजीनियर कैसे बनते है। सिविल इंजीनियर के अंदर कौन कौन से काम आतें हैं। क्या क्वालिफिकेशन होनी चाहिए इसमे सैलरी कितना मिलता हैं इन सब की पूरी जानकारी हिंदी में आपको देने वाले है तो चलिए जानते हैं।

PWD Kya Hai? PWD क्या कार्य करता है?

PWD एक government organisation होता है जो राज्य स्तरीय कार्य करते हैं। इसका कार्य अपने शहर में सड़के बनाना, बिल्डिंग बनाना, पुल निर्माण करना होता है। साथ ही साथ फ्लौर, रोड, पब्लिक यूटिलिटी का construction का कार्य पूरा करने का काम करते हैं। PWD शहरों में शुद्ध पीने का पानी उपलब्ध कराता है। साथ ही टूटी सड़के, पानी के फटे पाइपलाइन, विद्यालय ,अस्पताल, बिल्डिंग, पुल इत्यादि की मरमत करके नवनिर्माण का कार्य PWD करता है।

PWD Full Form क्या होता हैं?

PWD का Full FormPublic Work Department” होता है। इसका Meaning हिंदी में लोक निर्माण विभाग होता हैं। यह एक ऐसा Sector हैं जो Central Department के अंतर्गत कार्य करता हैं।

PWD में Civil Engineering क्या होता है ?

चूंकि हम जानते हैं कि क्षेत्र के अनुसार Engineering के अनेकों प्रकार होते हैं जैसे – Electrical Engineering, Software-Hardware Engineering, Agricultural Engineering, Mechanical Engineering, Civil Engineering etc. इसी तरह Civil Engineering भी इंजीनियरिंग का ही एक branch है। जिसके अंदर सिविल के सभी कार्य आते है। जो Construction, Designing, Road Maping-Making, Building Making, Bridge, Highway, Airport निर्माण इत्यादि इस प्रकार के Construction का कार्य होता है। PWD Category विभिन्न प्रकार के होते है

Civil Engineer क्या कार्य करता है?

PWD में सिविल इंजीनियर कंस्ट्रक्शन का कार्य करते है जैसे- Building की डिज़ाइन करना, Maps बनाना, किस कार्य मे कितना समय लगेगा, कितना खर्चा होगा, क्या Meterial Use होगा ये सारा calculation करना इत्यादि इस प्रकार के सारे कार्य एक सिविल इंजीनियर करता है। इसलिए एक सिविल इंजीनियर का कार्य बहुत ही रिस्की और जिम्मेदारी वाला कार्य होता है। एक सिविल इंजीनियर लोगो की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखकर कार्य करवाता है ये ऐसे कार्य सरकार के आदेशानुसार ध्यानपूर्वक संभालते हैं।

PWD में रोजगार के लिए vacancy

PWD Civil Engineering के Field में बहुत सारे कार्यो को हैंडल करते हैं इस फील्ड में कार्यरत होने के लिए बहुत ज्यादा रोजगार के अवसर प्रदान किये जाते है यानी इस फील्ड में सिविल इंजीनियर के पोस्ट पर जॉब पाने के बहुत ही ज्यादा Vacancy निकाली जाती है। यहां तक कि गवर्नमेंट हो या प्राइवेट क्षेत्र दोनो ही क्षेत्रो में सिविल इंजीनियर के लिए बहुत ही ज्यादा संख्या में रोजगार के लिए अवसर प्रदान किये जाते हैं।

इसके लिए सिविल इंजीनियर पदों के लिए इंडियन गवर्नमेंट प्रत्येक वर्ष 4,000 -5,000 vacancy निकालती है। जिसे हम न्यूज़ पेपर्स के माध्यम से या ऑनलाइन भी पता कर सकते हैं कि हर वर्ष pwf Vacancy कब निकाली जाती है। जिसमे बहुत ही बड़ी संख्या में कैंडिडेट्स इसके लिए अप्लाई करते हैं और प्रिपरेशन करते हैं। सिविल इंजीनियर PWD (पब्लिक वर्क डिपार्टमेंट) के अलावा भी किसी दूसरी फील्ड में जॉब पा सकते हैं जैसे- रेलवे डिपार्टमेंट या इसके अलावा कोई भी गवर्मेंट या प्राइवेट डिपार्टमेंट में सिविल इंजीनियर बन सकते है।

PWD में Civil Engineer कैसे बने?

Civil engineer बनने के लिए कैंडिडेट को बहुत ही कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। इसके लिए कैंडिडेट्स के पास कम से कम 10वीं या 12वीं तक का qualification होना चाहिए अगर आप भी civil engineering का कोर्स करके सिविल इंजीनियर बनना चाहते हैं तो इसके लिए हम आपको दो तरीके बताने जा रहे हैं यानी कि आप दो तरह से civil engineering कोर्स पूरा करके सिविल इंजीनियर बन सकते हैं।

  1. Junior civil engineer
  2. Senior civil engineer

Entrance exam के बारे में – सिविल इंजीनियर बनने के लिए आपको 10वीं या 12वीं क्लास क्वालीफाई करने के बाद engineering entrance exam पास करना होगा। यह entrance exam polytechnic तथा (JEE और CEE) दो तरह से लिया जाता है। जो candidates entrance exams अच्छे रैंक से क्वालीफाई कर लेता है उसे ही polytechnic डिप्लोमा( इंजीनियरिंग कॉलेज ) में या B.tech कॉलेज में admission मिलता है।

लेकिन कुछ ऐसे भी संस्था हैं जो स्वयं entrance exam करवाते हैं इसमे बैचलर डिग्री के लिए JEE (Joint Entrance Exam) और PG( Post graduation) के लिए CEE (combined Entrance Exam ) हेल्ड करता है। चलिए जानते है कि junior या senior civil engineer कैसे बने?

जैसा कि ऊपर हमने बताया कि सिविल इंजीनियर दो तरह के होते है या हम दो प्रकार से सिविल इंजीनियर बन सकते हैं।

1. Junior Civil engineer

यदि आप जूनियर सिविल इंजीनियर बनना चाहते हैं तो आपको 10वीं के बाद engineering entrance exam पास करके polytechnic diploma का कोर्स करना होगा। इसके लिए आपको matriculation में math ,physics और chemistry में अच्छे अंक लाना होगा और marks कम से कम 60% होना चाहिए।

junior civil engineer बनने के लिए यह polytechnic diploma का कोर्स पूरे 3 वर्ष का होता है। यदि आप जूनियर सिविल engineer बन जाते है और कुछ वर्षों तक अच्छे से अपने सिविल के कार्यो को पूरा करते है तभी आपको इसमे promotion के जरिये आप आगे चलकर सीनियर सिविल इंजीनियर बन सकते है।

2. Senior Civil Engineer

यदि आप direct सीनियर सिविल इंजीनियर बनना चाहते है तो इनके लिए आपको कम से कम 12वीं क्लास qualify करना ही होगा जिसमें आपका सब्जेक्ट math, chemistry और physics से होना चाहिए। साथ ही साथ minimum 60%marks obtain करना होगा। तभी आप सीनियर सिविल इंजीनियर बनने के लिए engineering entrance exam में हिस्सा ले सकते हैं। entrance exam पास करने के बाद जैसे ही आपका admission सिविल इंजीनियरिंग कॉलेज में हो जाता है ,उसके बाद आपको 4 वर्ष तक कॉलेज में B.techया B. E. जैसे कोर्सेस की पढ़ाई करनी होंगी ।जसमे आपको constructions से जुड़े सारी civil engineering के बारे में पढ़ाया जाएगा

साथ ही साथ जो candidates B. tech या B E का कोर्स पूरा कर लेते हैं वे इसके बाद चाहे तो M. tech या M E का कोर्स भी पूरा कर सकते हैं।इसके अलावा जो कैंडिडेट्स रीसर्च या शिक्षामित्र में प्रवेश करना चाहते हैं वो कैंडिडेट्स इसके बाद सिविल इंजीनियरिंग में phd कर सकते हैं।

PWD Civil Engineers Course Kya Hai?

जैसा कि हमने आपको बताया कि सिविल इंजीनियरिंग में आपको 4 वर्ष तक पढ़ाई करनी होगी उसके बाद भी आप चाहे तो एगें का कोर्स करके और भी नॉलेजियट बन सकते हैं चलिए जानते है कि सिविल इंजीनियरिंग में कौन कौन सा कोर्सेस आप कर सकते हैं–

  1. डिप्लोमा इन सिविल इंजीनियरिंग
  2. B. tech इन सिविल इंजीनियरिंग
  3. M. tech इन सिविल इंजीनियरिंग
  4. B. E. इन सिविल इंजीनियरिंग
  5. ME न सिविल इंजीनियरिंग
  6. Phd इन सिविल इंजीनियरिंग
  7. सर्टिफिकेट कोर्स इन बिल्डिंग डिज़ाइन
  8. पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा कोर्स इन कंस्ट्रक्शन एंड इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट मैनेजमेंट
  9. पोस्ट ग्रेजुएट इन सिविल इंजीनियरिंग
  10. ग्रेजुएशन इन सिविल इंजीनियरिंग
  11. सर्टिफिकेट कोर्स इन कंस्ट्रुक्शन्स सुपरवाइजर

PWD Civil Engineer Salary

PWD में जूनियर या सीनियर सिविल engineers की सैलरी काफी अच्छी खासी होती है । चलिए जानते हैं कि किस प्रकार के सिविल इंजीनियर की सैलरी कितनी होती है

  1. जो सिविल इंजीनियर गवर्नमेंट डिपार्टमेंट में कार्यरत होते हैं उनकी monthly salary 12,000 रु /माह होती है।
  2. सीनियर सिविल इंजीनियर की सैलरी 20,000 रु/माह होती है।
  3. वे सिविल engineers जो making, maping ,designing ल कार्य करते हैं उनकी सैलरी 60,000रु/माह होती है।
  4. वैसे सिविल engineers जो किसी कार्य के लिए फॉरेन में भेजे जाते हैं उन्हें और सिविल इंजीनियर की अपेक्षा अच्छी सैलरी मिलती है।इन्हें 100,000 रु/month सैलरी मिलती हैं

Note :- सिविल इंजीनियरों की सैलरी उनके experience और अनुभव के आधार पर भी बढ़ाई जाती है।

PWD Civil Engineering Top institute

सिविल इंजीनियरिंग के लिए अपने देश भारत मे बहुत सारे सिविल इंजीनियरिंग कॉलेज हैं। जिनमे से कुछ टॉप कॉलेजेस के नाम हम नीचे लिस्ट में बताने जा रहे हैं जिनमें आप admission लेकर सिविल इंजीनियरिंग का कोर्स करके सबसे अच्छा सिविल इंजीनियर बन सकते हैं ।चलिए शुरू करते हैं–

  1. Indian Institute of Technology, Bombay (Powai, Mumbai, Maharashtra)
  2. Indian Institute of Technology, Delhi (Houj Khas, New Delhi)
  3. Indian Institute of Technology, Kanpur (Nankri, Kalyanpur, Kanpur, Uttar Pradesh)
  4. Indian Institute of Technology, Khadakpur (Medinipur, Khadakpur, West Bengal, WP)
  5. Indian Institute of Technology, Rudki (Uttrakhand)
  6. Birla Institute of Technology and Science, Bites Pilani, Rajasthan
  7. Indian Institute of Technology, Banaras Hindu University (Varanshi, Uttar Pradesh)
  8. Indian Institute of Technology ITI, Gowahati (Amingaon, Gowahati, Assam
  9. Delhi Technological University, Rogini, New Delhi
  10. Indian Institute of Technology, Madras (Chennai)

उम्मीद है कि PWD Kya Hai और PWD Me Job Kaise Prapt Kare की जानकारी आपको पसंद आई होगी आप इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ शेयर कर के हमारा मनोबल बढ़ा सकते है ताकि और भी नई-नई जानकारी हम आपके लिए लिख सके। यदि आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप निचे कमेंट बॉक्स में हमे बता सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here