Flax Seeds Meaning in Hindi- Flax Seeds के उपयोग और फ़ायदे

हेलो दोस्तों गंगाज्ञान पर आप सब का फिर से स्वागत है दोस्तो, बहुत सारे ऐसे चीजे हमारे आसपास ही मौजूद होते हैं जिनके उपयोग के बारे में हमे पता नही होता है।और हम उन्हें बेकार का समझते है। तो कुछ लोग ऐसे होते है जिन्हें इन चीजों के उपयोग और फायदों के बारे में बहुत ही कम जानकारियां मालूम होती है। अपने स्वास्थ्य को बनाये रखने औऱ सौंदर्य को निखारने के लिए ऐसे ही एक महत्वपूर्ण और फायदेमंद चीज के बारे में बताना चाहते हैं।

Flax-Seeds

आज के इस पोस्ट में हम आपको Flax Seeds यानि अलसी के बीजो के बारे में बताने वाले हैं ग्रामीण क्षेत्रो में ज्यादातर आमलोगों द्वारा इसे तीसी भी कहा जाता है। कैसे Flax Seeds का प्रयोग किया जाता है क्या क्या फायदे होते है इसके सेवन से क्या क्या बीमारियाँ दूर हो सकती है इसकी पूरी जानकारी हम आपको हिंदी में देने वाले है। अगर आप भी जानना चाहते है Flax Seeds के बारे में तो आप हमारे इस पोस्ट को जरूर पढ़ें और दोस्तों के साथ शेयर करें ।

Flax Seeds Meaning in Hindi

Flax Seeds को हिंदी में अलसी के बीज को कहा जाता है। स्थानीय भाषा मे आमलोगों द्वारा इसे तीसी भी कहा जाता है। और कई राज्यो में इसे और भी अन्य नामों से बुलाया जाता है। भारतीय हिंदी भाषा के अनुसार इसे सभी लोग अलसी या अलसी के बीज के नाम से ही जानते हैं।

यह भी पढ़े

अलसी के बीज (Flax Seeds ) कैसा होता है?

अलसी एक प्रकार का छोटा सा पौधा होता है। जिसमे नीले नीले रंगों के छोटे छोटे फूल खिलते हैं और उसके बाद पौधों में बीज उपजने लगते हैं। यह हर जगह खेतों में देखने को मिलता है। अर्थात इसकी खेती की जाती है। इसके बीज बहुत ही छोटे छोटे और भूरे रंगों के होते हैं।ज्यादातर भारतीय किसान लोग इसकी खेती इसके बीजों के माध्यम से अलसी का तेल बनाने हेतु करते हैं। यह एक गर्म प्रकार का पौधा होता है। अर्थात अलसी के बीजों तथा तेलो में काफी गर्मी होती है जो शरीर को गर्म रखती है। इसके तेल का प्रयोग और इसके बीजों का सेवन सर्दियों में ज्यादातर लोग ठंड से बचने और शरीर को गर्म रखने के लिए करते हैं।

अलसी के बीजों के फायदे (Flax Seeds Benefits)

ज्यादातर आमलोग Flax Seeds का प्रयोग तेल निकालने, वजन कम करने और झड़ते बालो के रोकथाम हेतु करते हैं। लेकिन साथ ही इसका बहुत ही विशेष फायदे भी होते हैं जैसे:- अलसी के बीज का कम से कम एक फांक सुबह शाम पानी के साथ सेवन करने सके बीमारिया दूर हो जाती है। इसके सेवन करने से शरीर मे ऊर्जा और स्फूर्ति महसूस होती है कुछ लोग अलसी के बीजों को साबुत खाने के जगह पर इसका पाउडर बनाकर पानी के साथ सेवन करना पसंद करते हैं। अलसी के बीजों को बहुत ही उपयोगी और गुणकारी माना जाता है चलिए अब हम Flax Seeds में मौजूद तत्वों के बारे में जानकारी बताने जा रहे हैं।

अलसी के बीजों (Flax Seeds ) में मौजूद तत्व

अलसी के बीजों में बहुत ही विशेष गुण मौजूद होता है। इसलिए इसे सर्दियों का राजा भी कहा जाता है। अलसी के बीज को पीसकर या साबुत सही मात्रा में सुबह- शाम लगभग एक सप्ताह तक सेवन करने से बहुत ही लाभ मिलता है। अलसी के बीज तथा इससे बने तेल में अल्फा लिनोलिक एसिड (Alfa Linolic Acid) प्रचुर मात्रा में होता है। यह एक प्रकार का ओमेगा 3 फैटी एसिड (Omega 3 faty Acid) होता है। इसमें प्रचुर मात्रा में फैट/वसा मौजूद होता है। इसके साथ ही Flax Seeds में फाइबर ( Fiber), विटामिन B कॉम्प्लैक्स (Vitamin B Complax), प्रोटीन (Protien), पोटैशियम (Potassium), फास्फोरस (Phosphorus), मैग्नीशियम (Magnesium), मैगनीज ( Manganese), थायमिन (Thaymin), फाइटोस्ट्रोजन (Fightoestrogen) इत्यादि अनेकों प्रकार के मिनिरल्स प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।

झड़ते बालो के ये अलसी के बीजों के फायदे (Flax Seeds Benefits for Hair)

अलसी के तेल का प्रयोग शरीर की मसाज करने के साथ साथ चेहरे को निखारने के लिए भी किया जाता है। अलसी का तेल बालों में लगाने से बालों का झड़ना बंद हो जाता है। अलसी के बिनो को भूनकर या कच्चा किसी भी प्रकार से सही मात्रा में सेवन करने से भी बालों का झड़ना बंद हो जाता है। साथ ही बालों का सौंदर्य और चमक भी बढ़ जाता है। और बाल मजबूत और तंदुरस्त हो जाते हैं।

अलसी की बीजो Flax Seeds के गुण

अलसी के बीजो को गुणों का खान माना जाता है। इसके बहुत सारे लाभकारी प्रयोग किये जाते हैं चिकित्सीय क्षेत्रो में भी Flax Seeds का प्रयोग तरह तरह के बीमारियों को ठीक करने वाले दवाइयों में किया जाता है। इसके बीजों के प्रयोग से आयुर्वेदिक दवाएं भी बनते हैं। 100 ग्राम अलसी के बीजो में लगभग 18-20 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है। त्वचा से जुड़े हुई रोगों में भी अलसी की बीजो का सही प्रयोग बहुत ही लाभकारी होता है। अलसी के बीज बहुत सारे रोगों के लिए रामबाण इलाज माना जाता है तो चलिए जानते है अलसी के बीजो का विशेष गुण और प्रयोग के बारे में विस्तार से-

  1. भुने हुए अलसी के बीजो का सही मात्रा में उपयोग करने से झड़ते बालो के समस्या से छुटकारा मिल सकता है। चेहरे की पिम्पल्स और झाइयों को मिटाया जा सकता है।
  2. अलसी के बीजो का सेवन करके वजन को कम किया जा सकता है और मोटापे को कम किया जा सकता है।
  3. Flax Seeds कब्ज की समस्या को दूर करने में कारगर होता है।
  4. Flax seeds का इस्तेमाल करके सर्दी, जुकाम से निजात मिल सकती है।
  5. Flax Seeds बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और रक्त संचार को नियंत्रित भी करती है। साथ ही कोलेस्ट्रॉल को कम करके थक्के भी नही बनने देता है।
  6. Flax Seeds में एन्टी- ऑक्सीडेंट मौजूद होता है जिस कारण इसके सेवन करने से बढ़ती उम्र का असर दिखना कम किया जा सकता है।
  7. बहुत सारी बीमारियां जैसे:- अस्थमा, कैंसर, डायबिटीज इत्यादि तथा हड्डियों की समस्या इत्यादि होने पर अलसी की बीजो का प्रयोग करने से काफी हद तक फायदा होता है।
  8. अलसी के बीजो को साबुत खाने से शरीर मे मौजूद विषाक्त तत्व (डिटॉक्सिफिकेशन) बाहर निकलने लगता है।
  9. अलसी के बीजो और तेलो का प्रयोग करके बनाये गए पकवान और मिठाईया सेहत के लिए फायदेमंद होती है सर्दियों के दिनों में ज्यादातर लोग अलसी के तेल तथा बीजो से बने खाद्य सामग्रियों का प्रयोग करना पसंद करते हैं क्योंकि इससे शरीर गर्म रहता है और ठंड नही लगती है।

अलसी के बीज (Flax Seeds) के दुष्प्रभाव

अलसी के बीजो का गलत तरीको से इस्तेमाल करने बहुत सारी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। जैसे:-

  1. अलसी के बीज का अधिक सेवन करने से शरीर को लूज मोशन की समस्या से जूझना पर सकता है।
  2. 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को किसी समस्या हेतु अलसी के बीजो का सेवन अपने चिकित्सक के परामर्श से कराना चाहिए । कम उम्र के बच्चों को इसके सेवन से दूर रखें। लेकिन Flax Seeds के तेल या बीजो से बने वस्तुओ का सेवन कर सकते हैं साथ ही इसके तेल से मालिश वगैरह भी कर सकते है।
  3. जिन पुरुषों को प्रॉस्टेट की समस्या हो उन्हें अलसी के बीजो का प्रयोग नही करना चाहिए।
  4. वैसी महिलाये जो गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करती हैं। वे इस दौरान किसी समस्या हेतु घरेलू उपचार के रूप में अलसी के बीजो का सेवन न करें। बांझपन हो सकती है।
  5. अगर महिलाएं गर्भवती होने चाहती हैं वे पीरियड के दौरान इसका सेवन न करें क्योंकि अलसी के बीज शरीर मे एस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ाती है जिससे हार्मोन्स में गड़बड़ी हो सकती है और आसमयिक पीरियड भी हो सकती है। ऐसे में गलत तरिके से या ज्यादा मात्रा में किया गया इस्तेमाल महिलाओ को बांझपन का सामना करना पड़ सकता है।
  6. अलसी के बीजो (Flax Seeds ) के ज्यादा सेवन से शरीर मे एलर्जी होने लगती है जैसे :- सांस लेने में तकलीफ, ब्लड प्रेशर की समस्या या फिर एनाफिलेक्सिस की सम्भवना इत्यदि बढ़ सकती है।
  7. गर्मियों के दिनों में अक्सर इसके तेल से शरीर की मसाज करने से या चेहरे पर इस्तेमाल करने से दाद, खाज, खुजली और अन्य इन्फेक्शन जैसे फुंसी इत्यादि होने लगती है। क्योंकि यह गर्म तासीर का तेल होता है। इसलिए गर्मियों में अलसी के तेलो का प्रयोग न करे या अलसी के तेलो का इस्तेमाल कम मात्रा में करना चाहिए।
  8. वैसी महिलाएं जिन्हें पीरियड के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग या 8-10 दिनों तक ब्लीडिंग होती है उन्हें भी अलसी के बीजो का सेवन नही करना चाहिए।

इस प्रकार जहाँ एक ओर अलसी के बीज (Flax Seeds) हमारे सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होता हैं। तो दूसरी ओर इसके गलत तरीके से या ज्यादा मात्रा में सेवन करने से हमारे सेहत को नुकसान भी पहुँचता है। लेकिन सही मात्रा में अलसी के बीजो का सेवन करने से हमारा हमारा स्वास्थ्य तंदुरस्त रहता है।इस प्रकार अलसी के बीज कई सारी बीमारियों के लिए, झड़ते बालों के लिए और हमारे सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है।

तो उम्मीद है कि हमारा यह पोस्ट अलसी के बीज Flax Seeds Meaning in Hindi और इसके फायदे के बारे में बताई गई जानकारी बेहद पसंद आई होगी। आप हमारे इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर कर हमारा मनोबल बढ़ा सकते है ताकि हम इसी तरह नई नई जानकारियाँ आप सब के लिए लिख सके अगर आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो आप हमें नीचे Comment Box में बता सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here